Wednesday 22 September 2010

सतनाम श्री वाहे गुरु ! तुहानूं ते सभ नूँ वधाईयां !

Tuesday 21 September 2010

Print Media

Print Media

Tuesday 14 September 2010

हिंदी-दिवस के बहाने चलो हिंदी की बात करें.

व्रत-त्योहार और दिवस आते हैं और अपने -पराए शुभकामनाएँ लेते-देते हैं. 'हिंदी-दिवस' भी इसी श्रेणी का दिवस बन गया है. इसे केवल शुकामनाओं का दिवस नहीं बनाना चाहिए. यह तो जीवन-शैली है. आत्मा में रची-बसी है.इसे अपनाएँ.
हिंदी में सक्रिय लेखन करते हुए  चार दशक से अधिक बीत गए हैं. अनेक साहित्यिक और शैक्षिक पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं. अनेक हिंदी कार्यशालाओं में भाषण दिए हैं. अनेक स्कूलों के हिंदी शिक्षकों को संबोधित किया है. हिंदी-दिवस पर आयोजित अनेक कवि-सम्मेलनों में भाग लिया है. अनेक हिंदी पत्र-पत्रिकाओं का संपादन किया है.लगभग तीस वर्षों तक अध्यापन किया है. आज हिंदी की स्थिति देखकर गर्व होता है.
लेह-लद्दाख से लेकर मणिपुर और अंडमान तक देश भर में हिंदी ही एक-दूसरे के साथ संवाद का माध्यम है. विदेशों में बसे भारतीय हिंदी में बातचीत करके गर्वित होते हैं. कुछ माह अमेरिका में रहने के मध्य इस प्रकार के अनेक अवसर आए. वहाँ मिले भारतीय अनजान होने पर भी मिले और तुरंत हिंदी में बातें करने लगे. होटलों में भी यही अनुभव  किया. वहाँ बसे भारतीय अपनी मातृभाषा में और हिंदी में बातचीत करके स्वयं को देश के साथ जुड़ा महसूस करते हैं.
हमें अधिक से अधिक भाषाओँ का अध्ययन करना चाहिए. सुप्रसिद्ध साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन तेरह से अधिक भाषाओँ के विद्वान थे. हिंदी का किसी से वैर नहीं है. राजनेताओं ने देश का जो हाल लिया है,सबके सामने है. उनके कारण हिंदी का हित नहीं हुआ है , यह तो इस भाषा की विशेषता  है कि यह स्वयं पल्लवित-पुष्पित हुई है. आज हिंदी में लाखों (हजारों  नहीं ) लेखक हैं.14 सितम्बर 1946 संविधान में  को इसे राष्ट्रभाषा के रूप में स्वीकृत किया गया. आज यह जन-मानस में रच-बस गई है. हमें  अन्य भारतीय भाषाओँ के साथ हिंदी पर गर्व है. यह संसार की श्रेष्ठ भाषाओँ में से एक है.