Sunday, 7 November, 2010

यादों का सिलसिला

वक्त अपनों को बहाकर कहाँ-कहाँ ले गया l
हाथों में सिर्फ यादों का सिलसिला  दे गया ll
*अशोक  लव 

No comments: