Wednesday 11 March 2009

चर्चा -गोष्ठी :अशोक लव की नारी संबन्धी क्रांतिकारी कविताएँ / सुमन दत्ता


ब्लू बर्ड एजूकेशन सोसाइटी के निर्देशक और सुप्रसिद्ध समाज-सेवी श्री रमेश दत्ता श्री अशोक लव को सम्मान-पत्र और स्मृति-चिह्न भेंट कर ' सूर्यकांत त्रिपाठी निराला सम्मान ' से अलंकृत करते हुए ।
अशोक लव को संस्थाओं द्वारा "सूर्यकांत त्रिपाठी निराला " सम्मान से अलंकृत किया। ब्लू बर्ड एजूकेशन सोसाइटी के निर्देशक और सुप्रसिद्ध समाज-सेवी श्री रमेश दत्ता ने उन्हें सम्मान-पत्र प्रदान किया श्री एन एल गोसाईं ने सम्मा-पत्र पढ़ा।
सार्थक प्रयास के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और साहित्यकार एन एल गोसाईं पुस्तक पर समीक्षात्मक विचार प्रकट करते हुए कहा कि इस संह्रह की नारी संबन्धी कविताएँ तो हृदय को छूती ही हैं , देश के विभाजन पर लिखी कविताएँ विभाजन की पीड़ा ताज़ा कर देती हैं ।अशोक लव ने नए उपमानों और विशेषणों के प्रयोग करके सिद्ध कर दिया है कि वे प्रयोगधर्मी कवि हैं
वरिष्ठ कथाकार-कवि हरेराम समीप ने श्री अशोक लव की साहित्यिक-यात्रा के संस्मरण और उनकी रचनाधर्मिता पर अपने विचार प्रकट करते हुए कि सन् १९८७ में उनके द्वारा कथा साहित्य पर आयोजित सम्मलेन श्री कमलेश्वर की अध्यक्षता में हुआ था सारिका के संपादक श्री अवधनारायण मुदगल ,श्रीमती चित्र मुदगल आदि साहित्यकारों के मध्य श्री अशोक लव ने लघुकथा पर महत्वपूर्ण आलेख - पाठ किया था। जिसे बाद में श्री देश निर्मोही ने ' पल-प्रतिपल ' पत्रिका में प्रकाशित था। कहानी , कविता साक्षात्कार और उपन्यास जैसी विधाओं में सक्रिय लेखन करते हुए इनकी लघुकथा में विशेष पहचान रही है।
वरिष्ठ ग़ज़लकार अशोक वर्मा पुस्तक ने आलेख-पाठ किया। उन्होंने अशोक लव के संग की साहित्यिक - यात्रा के २५ वर्षों के अनेक संस्मरण भी सुनाये लघुकथा पर एकसाथ गोष्ठियां करना, कवि-सम्मेलनों में साथ - साथ जाना - अशोक लव में एक जुनून था जिसके हम गवाह हैं आज भी वे उतने ही सक्रिय हैं उनकी कविताएँ उनकी पहचान हैं। वे सरल, सीधे दिल से जुड़ने वाले कवि हैं

प्रिंसिपल श्रीमती सुमन लता ने "लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान" की कविताओं को नारी मन की भावनाओं को पुरुष कवि द्वारा प्रकट करने वाली क्रांतिकारी कविताओं की संज्ञा दी।
(बाएँ से ) - आरिफ जमाल, अशोक वर्मा, अशोक लव, बी आर कपूर
प्रिंसिपल एवं चर्चित कवयित्री इंदु गुप्ता ने आलेख-पाठ करते हुए कहा-"सामूहिक संवेदन को एक व्यक्तिगत दिशा में मोड़ने का सुंदर सुदृढ़ एवं क्रांतिकारी प्रयास है - लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान "
न्यू ऑब्ज़र्वर पोस्ट के संपादक आरिफ जमाल ने आलेख-पाठ करते हुए कहा कि इस संग्रह की कवितओं में सोच को बदलने की क्षमता है। इन कविताओं का अन्य भाषाओं में अनुवाद होना चाहिए ताकि यह अधिक से अधिक पाठकों तक पहुँच सकें।


वरिष्ठ साहित्यकार प्रकाश लखानी ने पुस्तक पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि श्री अशोक लव के इस संग्रह की एक-एक कविता परिपक्वता लिए है।
साहित्यकार मुकेश गंभीर ने अध्यक्ष के रूप में पुस्तक पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि अशोक लव समाज से जुड़े कवि हैं इस संग्रह की एक-एक कविता इसकी साक्षी है।

( दायें से ) सर्वश्री हरेराम समीप, परस नाथ बुलचंदानी, अशोक वर्मा, अशोक लव, इंदु गुप्ता, नरेश बाला, सुमन दत्ता
श्री मुकेश गंभीर को स्मृति-चिह्न भेंट करते हुए श्री रमेश दत्ता और रायजादा के एस बाली
सार्थक प्रयास के अध्यक्ष बी आर कपूर श्री राणा का स्वागत करते हुए
श्रीमती इंदु गुप्ता श्रीमती नरेश बाला लव का स्वागत करते हुए साथ में श्रीमती सुमन दत्ता
श्रीमती सुमन दत्ता का स्वागत करते हुए श्रीमती इंदु गुप्ता
' फ़रीदाबाद धार्मिक और सामाजिक संगठन ' की ओर से श्री अशोक लव को स्मृति- चिह्न भेंट करते हुए संस्था के अध्यक्ष श्री गेरा
' फ़रीदाबाद धार्मिक और सामाजिक संगठन ' की ओर से श्री अशोक वर्मा को स्मृति- चिह्न भेंट करते हुए संस्था के अध्यक्ष श्री गेरा

श्री अशोक लव का स्वागत करते हुए 'सार्थक प्रयास ' के अध्यक्ष श्री बी आर कपूर
श्री आरिफ जमाल का स्वागत

श्री अशोक वर्मा का स्वागत करते हुए 'सार्थक प्रयास ' के वरिष्ठ उपाध्यक्ष श्री एन एल गोसाईं .
श्री अशोक लव माँ सरस्वती को माल्यार्पण करते हुए



'सार्थक प्रयास ' और ' ब्लू-बर्ड एजूकेशन सोसाइटी ' द्वारा अशोक लव के काव्य-संग्रह 'लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान ' पर ' फरीदाबाद धार्मिक और सामाजिक संगठन ' सभागार में २२ फरवरी २००९ को चर्चा- गोष्ठी का आयोजन किया गया ।इसकी अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार श्री मुकेश घम्बीर ने की इस अवसर पर अशोक वर्मा, एस के सिंघल, पारसनाथ बुलचंदानी ,सतीश अग्रवाल , अजय अक्स, अब्दुल रहमान, वसंत भाटिया ,आर तिवारी, प्रकाश सागर , आसिफ कमाल, प्रदीप गर्ग पराग आदि कवियों ने कविता-पाठ किया।

प्रस्तुति - सर्वेश तिवारी

No comments: