Wednesday 9 December 2009

कुछ छिन रहा है / अशोक लव

घबराहट है
वेदना है
छटपटाहट है
छिन रहा है
बहुत-बहुत प्रिय।

और विवशता है कि
असहाय हैं
मूक दर्शक हैं
रोक पाने की सामर्थ्य है
हठ करने का साहस
बस निवेदन और निवेदन
प्रार्थनाएँ ही प्रार्थनाएँ !

कितना असहाय हो जाता है
मनुष्य
और नियति को स्वीकार करने को
हो जाता है बाध्य।
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
* .१२.०९ , माँ के लिए

No comments: