Saturday 16 October 2010

काश ऐसा होता कि हम..........! --- अशोक लव

त्योहारों के संग कितनी स्मृतियाँ सजीव हो उठती हैं. वे सब आसपास तैरने लगते हैं जिनकी उंगलियाँ पकड़ कभी रामलीला देखने जाते थे, कभी जलते रावण , कुम्भकरण और मेघनाद के पुतले. जीवन के पृष्ठों पर इन सबकी कथाएँ उन्होंने लिखीं जो अब नहीं हैं.
समय जिस तेज़ी से भागता है, पता ही नहीं चलता कैसे सब लीलता चला जाता है.कुछ  नहीं  छोड़ता. केवल रह जाती है टीस !
 किसी को इससे कुछ लेना-देना नहीं. यह एकदम व्यक्तिगत होती  है.
इस संसार में सबका अपना-अपना एक भिन्न संसार बसा होता है. अपनी-अपनी भावनाएँ,अपनी-अपनी संवेदनाएँ,अपनी -अपनी प्रसन्नताएँ, अपनी-अपनी उदासियाँ. स्वयं के हृदय की धड़कनों को स्वयं ही सुनना.
कितना अकेला होता है मनुष्य , सबके बीच रहते हुए भी एकदम अकेला !
जीवन-यात्रा के मध्य उनका आभार आवश्यक हो जाता है जिन्होंने अपने जीवन के अमूल्य क्षण हमारे जीवन को सजाने-संवारने में लगा दिए.आज कल करते-करते समय यूं निकल गया . जिनके प्रति आभार प्रकट करने के विषय में सोचते रहे ,वही नहीं रहे.
उन सबका आभार तो प्रकट कर ही देना चाहिए जो हमारे आसपास हैं. उन क्षणों के लिए जो उन्होंने अपने समय से निकालकर हमें समर्पित किए.
इस बार भी इन त्योहारों के संग वे बहुत याद आ रहे हैं जिनके संग इन्हें मनाया था.
एक शब्द है--काश !
काश! ऐसा होता कि हम समय को बाँधने  की सामर्थ्य रखते. काश ऐसा होता कि हम..........!

No comments: