Thursday 30 July 2009

न रास्ता न मंजिल / अशोक लव


रात ने अंधेरे की चादर बुनकर टांग दी है
रास्ता दिखता है मंज़िल का नामोनिशां

No comments: