Thursday 17 June 2010

बस - स्टॉप पर द्रौपदी / अशोक लव *

बस - स्टॉप पर खड़ी थी
अधेड़ औरत।

एक के बाद एक बसें आतीं भीड़ भरीं
वह चढ़ नहीं पाती
बस के दरवाज़े से उलटे पाँव लौट आती
कंधे से लटकता झोला संभालती।
' इस बार आई बस में वह ज़रूर चढ़ेगी '
उसने निर्णय कर लिया ,
दरवाज़े तक लटकी भीड़ में डाल दिया उसने हाथ
हैंडल हाथ में नहीं आया
ड्राईवर ने चला दी बस
गिर गई औरत
छिल गई कुहनियाँ
झोले से दूर जा गिरा
टिफ़िन-बॉक्स ।

झटका लगते ही खुल गया
टिफ़िन-बॉक्स
सड़क पर जा गिरीं -
दो सूखी चपातियाँ
एक फांक अचार ,
झट से उठा लीं चपातियाँ
झट से उठा लिया अचार
पोंछकर करने लगी बंद उन्हें
टिफ़िन-बॉक्स में ।


भरे बस-स्टॉप पर
अधेड़ औरत
द्रौपदी बनी खड़ी थी ।
"""""""""""""""""""""""""""
*पुस्तक- लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान ( वर्ष-2008)

[ किसी ने इस कविता के शीर्षक और कुछ पंक्तियों में परिवर्तन करके इसे अपने नाम से फेसबुक /ऑरकुट में लगाया हुआ हैइस ओर मेरा ध्यान कुछ साहित्यकार मित्रों ने दिलाया हैइसलिए इसे प्रकाशित करना आवश्यक हो गया है।]
Ashok sir ji, ki yah rachna sanketon main aam jan jeevan ki sachchi bangi pesh karti hai, Rachna ka mukhya patra yani bus stap par kahdi adhed stree, vastav main Bhartiya samaj ke us varg ka pratinidhittav kar rahi hai jo sahi arthon main aam insan hone ki trasdi ke sath jeeta hai, Rotian, or Aachar un vastaoun or mulyon ke prateek hain, jinke sath aaye din samjhoute karne padate hain, lekin ye mulya, or manyatan aam aadami ke jeevan se is tarah jude hue hain, aam aadmi ko unke sath hi jeean hota hai, naitik or anaitik jaisa koi bhi prshan aisi sthithi main apna astitav kho deta hai,
sach kahun di to Ashok sir ji ne in chand panktion main samaj or insan ke us chehre ko samne rakh diya hai jo amuman har roz samne aakar bhi chhupa hua hota hai-"
orkut ke 'srijan ka sahyog' se udhrit.

No comments: