Thursday 26 August 2010

कविता- "लड़कियाँ होती हैं लड़कियाँ "- अशोक लव

 लड़कियाँ होती हैं लड़कियाँ 
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
पींगों पर झूलती कविता
झुलाती लड़कियाँ
पांवों में घुँघरू बजाती
छनछनाती लड़कियाँ
गीतों को स्वर देती
 गुनगुनाती लड़कियाँ
घर-आँगन बुहारती
संवारती लड़कियाँ .


मर्यादाओं की परिभाषा
होती हैं लड़कियाँ
संस्कारों को जीती
जगाती हैं लड़कियाँ
पैरों में आसमान
झुकाती हैं लड़कियाँ.

'''''''''''''''''''''''''''''''''
@अशोक लव
सेक्टर-6, द्वारका
नई दिल्ली-110075

No comments: