Sunday 1 August 2010

मित्रता अमूल्य भाव है इसका निर्वाह निःस्वार्थ भाव से होता है

No comments: