Saturday, 17 March, 2012

कविता और कवि मन / अशोक लव

कविता कवि के मन के भावों की अभिव्यक्ति होती है. कवि अपने परिवेश को जीता है. अन्य व्यक्तियों के जीवन को देखता है. उसे अनेक घटनाएँ प्रभावित करती हैं. अत्यधिक संवेदनशील होने के कारण अपने और अन्य लोगों के अनुभवों और भावों को कविता के रूप में अभिव्यक्त कर देता है. कविता के सृजन की प्रक्रिया सहज नहीं होती. यह कविता भी ऐसे ही क्षणों से निकलकर सर्जित हुई है. तेज़ी से परिवर्तित होते समय के साथ व्यक्ति अकेला होता जा रहा है. अकेलेपन के इन क्षणों को, उपेक्षाओं को शब्दों में समाहित करने का प्रयास किया है.

No comments: