Friday 7 August 2009

उलझन / अशोक लव

कुछ कह दिया होता तो इंतज़ार रहता ,

खामोशियों के झुरमुटों में उलझे पड़े हैं हम !

No comments: