Monday 28 September 2009

विजय हो सत्य की / अशोक लव

समाज में सत्य और असत्य के मार्ग पर चलने वालों में युगों से संघर्ष चलता रहा हैव्यवहारिक रूप में हम असत्य को जीतते हुए भी देखते हैंइससे निराशा के भाव जागृत होना स्वाभाविक हैइन भावों से मुक्ति के लिए समय-समय पर पर्व -त्योहार आते हैंइन त्योहारों के साथ कथाएँ जुड़ी होती हैंइनके माध्यम से प्रेरणा दी जाती है कि अंततः सत्य की विजय होती है
भारत में शक्ति के रूप में माँ दुर्गा और आदर्श मर्यादित आचरण करने के लिए श्री राम जन-जन के आराध्य हैंदुर्गा -पूजा और दशहरा "विजय-दशमी " के रूप में मनाये जाने वाले त्योहार हैंमहिषासुर और रावण रूपी अत्याचारियों के वध से जन-जन में व्याप्त भय और आतंक का अंत हुआ थाआज विजय -दशमी हैआज का समाज विभिन्न रूपों में भय और आतंक उत्पन्न करने वाली शक्तियों से ग्रसित हैमहिषासुर बलात्कारियों और दहेज़-लोभियों आदि के अनेक रूप धारण करके नारियों पर अत्याचार कर रहे हैंरावण गली-गली में छुट्टे घूम रहे हैंक़ानून नाम की कोई व्यवस्था नहीं रहीराजनेता समाज के हित के लिए नहीं , स्वजन और स्वयं के हित के लिए समस्त मर्यादाओं को ताक पर रखकर येन-केन-प्रकारेण धन एकत्रित करने में जुटे हैंसत्ता पाने और सत् में बने रहने के लिए वे किसी भी अधम कार्य को करने में संकोच नहीं करते
विजय-दशमी के पर्व पर केवल महिषासुर और रावण के वध से हर्षित होने से समाज का रूप नहीं बदलेगाइसके लिए समाज की महिषासुरी और रावणी शक्तिओं के विनाश की कामना भी करनी चाहिएजन-जन के लिए राम से नेतृत्व की कामना करनी चाहिए
आप सबको विजय-दशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

No comments: