Monday 29 June 2009

नीले-सफ़ेद फूल / अशोक लव

ये नीले - सफ़ेद फूल
अब पूरी तरह खिल गए हैं ।
कुछ समय पूर्व तक इनका अस्तित्व नहीं था .
प्रतीक्षा थी
इन फूलों के खिलने की
एक -एक कर कितने दिन बीत गए
और अब
ये अपना सौन्दर्य बिखेरने लगे हैं.
क्या विडंबना है !
अब ये खिल गए हैं
और हमीं इन्हें देखने के लिए नहीं रहेंगे।


कितने-कितने स्वप्न सजाते हैं हम
और कैसे स्वप्न भंग होते चले जाते हैं
बस एक टीस टूटे काँच-सी
काटती रहती है हर पल ।

इन नीले - सफ़ेद फूलों को
कहाँ स्मरण रहेगा -
किसी ने
उनके आगमन की प्रतीक्षा में
ऑंखें बिछा रखी थीं.

उनके संग जीने के
कितने-कितने स्वप्न सजा रखे थे !

कौन बदल सकता है
इन कटु सत्यों को ?

न चाहकर भी
जीना पड़ता इन स्थितियों को
और पल-पल टूटे काँच की कटन को
सहते जाना पड़ता है.
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
*थाउज़ैंड ओ़क्स , कैलीफोर्निया ,२८ जून २००९
*सर्वाधिकार सुरक्षित

No comments: