Saturday 20 March 2010

चलो फिर से नए रिश्ते बनाते हैं ,

कुछ तुम कहो कुछ हम सुनाते हैं।

-अशोक लव

No comments: