Saturday 24 July 2010

आभा खेतरपाल की कविता पर ...

"लाखों क्षण रेत से हैं /या बिखरी आशाएं /कंटीली झाड़ियाँ हैं /या आँखों में चुभते सपने /तपती धूप है /यासुलगती यादें /चीखता सन्नाटा है /या मेरा अकेलापन /सूखी धरती है /या मेरा प्यासा मन /आखिर कोईतो बताये /ये मैं हूँ या मरुस्थल !"-आभा खेतरपाल
आभा जी आपकी कविता जीवन के उस पक्ष की पीड़ाओं की अभिव्यक्ति है जो मनुष्य के सामर्थ्य से परे है।विवशताएँ हैं हमारी , आपकी। प्रत्येक व्यक्ति जीवन में हरियाली चाहता है और उसके पाँव के नीचेमरुस्थल की गरम-गरम रेत जाती है। इन विवशताओं की है यह कविता।
...हरियाली आपके आसपास है...मरुस्थल नहीं !

No comments: