Tuesday 20 July 2010

बदलते आंगन (कविता ) / अशोक लव

The Super Human

बदलते आँगन/खंड नारी

आँगन में जन्मती हैं
पलती-बढती हैं
खिलखिलाती हैं
घर-द्वार महकाती हैं |

तितलियों-सी उड़ती हैं
प्रकृति की समस्त छटाएँ छितराती हैं
कोयल-सी कुहकती हैं
घर को स्वर्ग बनाती हैं |

माँ के चरण-चिह्नों पर
पाँव रखती हैं
आटा गूंथना सीखती हैं
चपातियों को गोल करना सीखती हैं
सब्जियों-मसालों में सम्बंध बनाना सीखती हैं |

पिता की आय का हिसाब रखने लगती हैं
माँ की थकान का हिसाब रखने लगती हैं
घर के उत्तरदायित्व बांटने लगती हैं |

इतना सब जब सीख जाती हैं
सहसा चिड़िया-सी उड़ जाती हैं
अपना संसार बसाती हैं |
कहाँ जनमती हैं,
कहाँ पलती हैं,
कहाँ घर बसाती हैं!
ऐसी होती हैं बेटियाँ!
-------------------------

बेटियां ,
सुनने मैं ये शब्द जितना मीठा लगता है , जीवन मैं यह शब्द उतना ही सुन्दर और शाश्वत होता है , है न दी ,
जीवन के सच की सदृश्य बेटियाँ , सिर्फ माता , पिता , की बेटी न होकर आंगन का उजाला , घर की रौनक , दो परिवारों का सम्मान , और कई जीवनों का आधार होती हैं बेटियां ।
सच में दी , ये बहुत बहुत बहुत अच्छी रचना लगी है , अशोक जी को , हृदय की अतल गहरे से बधाई ।

-----------------

'लड़कियाँ छूना चाहती हैं आसमान' की कविताओं को सुश्री आभा खेतरपालऑरकुट में' सृजन का सहयोग ' में पोस्ट कर रही हैंइस कविता पर प्राप्त प्रतिक्रिया सहित इसे यहाँदिया जा रहा है

No comments: