Saturday 24 July 2010

जेन्नी शबनम के पिताजी को श्रद्धांजलि !

जेन्नी शबनम जी
एक पीढ़ी थी श्रद्धा योग्य ,नमन योग्य !आपके पिता जी उस पीढ़ी के साक्षात् प्रमाण हैं। वह संघर्षरत पीढ़ी थी। मूल्यों के लिए जीना, जीवन- दर्शन को जीवन में उतारना, मात्र अपने लिए ही नहीं समाज के लिए भी जीना।
हमने भी उस पीढ़ी को निकट से देखा और जिया है।
हमने कई बार सोचा कि जेन्नी जी इतनी संस्कारवान कैसे हैं ? अब पता चला। आप धन्य हैं। जिनके पिता ऐसे होते हैं उनका आपकी भाँति होना स्वाभाविक है ।
आपने आपने पिता जी के विषय में जितना लिखा है, उससे आँखों के समक्ष उनका गंभीर श्रद्धा-योग्य व्यक्तित्व साकार हो गया है। उनका अभाव पल-पल खटकना स्वाभाविक है। वे प्रकाश-पुंज थे। उनका चला जाना जीवन भर के लिए ऐसा अभाव छोड़ गया होगा जिसे न तो कोई व्यक्ति और न ही कुछ शब्द पूर्ण कर सकते हैं।
जब किसी की बहुत आवश्कता होती है तब उसका न होना कितना पीड़ाजनक होता है इसकी अनुभूति हमें है। हमारी अपनी सीमाएँ हैं, मृत्यु के क्रूर हाथों के समक्ष असहाय हैं।
काश आप जैसी बेटियाँ सभी की हों , जो आज भी आपने पिता के साथ इतनी गहनता से सम्बद्ध हैं ।
मन बहुत उदास हो गया है। कुछ दिनों के पश्चात् ही पिता जी की पुण्य-तिथि है।
आपकी माता जी ने जो संघर्ष किए हैं , उन्हें नमन !
--अशोक लव
जेन्नी शबनम :लिंक -http://saajha-sansaar.blogspot.com

No comments: