Friday 7 November 2008

विषैली हवा / * अशोक लव




न जाने
किस अँधेरी गुफ़ा से
निकल आई है
विष बुझे बाण-सी हवा
न जाने कैसा विष उतार दिया है
इसने
हर कोई सौंप बना
फुफकार रहा है।
---------------------------
* पुस्तक- अनुभूतियों की आहटें
प्रकाशन-1997

No comments: