Monday 10 November 2008

ठूंठ / * अशोक लव




मौसम बदला है
ठूंठ देखने लगा है
सपने वसंत के ,
सपने हरियाली के
भूल गया है
भीतर तक सूख चुके भावों में
हरियाली नहीं उगती
ठूंठ के लिए
सभी मौसम
एक से होते हैं।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
"अनुभूतियों की आहटें" से

No comments: